Thursday, September 29, 2022
HomeStatesVaisakhi 2022: फसल उत्सव है वैसाखी

Vaisakhi 2022: फसल उत्सव है वैसाखी

Date:

Vaisakhi 2022: वैसाखी एक प्राचीन वसंत फसल उत्सव है जो पंजाब क्षेत्र में सदियों से मनाया जाता रहा है। यह 17 वीं शताब्दी के अंत में सिख धर्म के साथ निकटता से जुड़ा, जब सिख नेता, गुरु गोबिंद सिंह ने खालसा पंथ की स्थापना के लिए त्योहार की तारीख चुनी।

वैसाखी का महत्व Vaisakhi 2022

किंवदंती के अनुसार, गुरु गोबिंद सिंह ने अपनी जान देने के इच्छुक किसी भी सिख को चुनौती दी थी। करीब एक हजार लोगों की भीड़ में कुल पांच लोगों ने स्वेच्छा से भाग लिया। स्वयंसेवकों की जान लेने के बजाय, गुरु ने उन्हें “अमृत” से बपतिस्मा दिया और संत-सैनिकों के पांच सदस्यीय समूह “खालसा” का गठन किया। फाइव के पांच खालसा पुरुषों का एक समूह था जो केश (बाल), कत्चेरा (इनरवियर), कंघा (कंघी), कृपाण (तलवार), और कारा (स्टील की अंगूठी) के लिए खड़े थे।

उस दिन से सिखों के औपचारिक बपतिस्मा के दौरान अमृत या “अमृत” का छिड़काव एक आम बात हो गई है। अपने ऐतिहासिक महत्व के अलावा, यह दिन रबी की फसल के पकने का भी प्रतीक है, जिसे पंजाबियों द्वारा मनाया जाता है।

Happy Vaisakhi 2022

भारत में बैसाखी कैसे मनाई जाती है? Vaisakhi 2022

कई सिख वैशाखी की घटनाओं को मनाने के लिए पवित्र स्थलों की तीर्थयात्रा पर जाते हैं। गुरुद्वारों को विभिन्न रंगीन रोशनी से सजाया जाता है, और सिख “नगर कीर्तन” प्रदर्शन करते हैं। जुलूस के आगे बढ़ने पर लोग सिख ग्रंथों से भजन गाते हैं।

सांस्कृतिक कार्यक्रमों में अक्सर पारंपरिक लोक नृत्य या भांगड़ा होता है, जो अनिवार्य रूप से एक फसल उत्सव नृत्य है। स्थानीय मेले, जो पंजाबी संस्कृति का एक बड़ा हिस्सा हैं, बहुत से लोगों को आकर्षित करते हैं।
पारंपरिक पोशाक पहनना, स्थानीय व्यंजन खाना और दोस्तों और रिश्तेदारों से मिलने जाना काफी आम है। नया व्यवसाय शुरू करने के लिए भी बैसाखी का दिन शुभ माना जाता है।

Vaisakhi 2022

Also Read: How To Increase Fan Speed: इन टिप्स को फॉलो कर बड़ा सकते हैं पंखे की स्पीड बिजली की भी होगी बचत

Also Read: All MLA Said In Assembly session चंडीगढ़ मुद्दे पर हरियाणा दोबारा करे सुप्रीम कोर्ट का रुख

Connect With Us : Twitter Facebook

Latest stories

Related Stories