Friday, October 7, 2022
HomeStatesVaman Dwadashi Fair : मेले का आज आखिरी दिन, रात को नौरंगराय...

Vaman Dwadashi Fair : मेले का आज आखिरी दिन, रात को नौरंगराय तालाब में हिंडोलों की कराई जाएगी परिक्रमा

Date:

इंडिया न्यूज, Haryana News (Vaman Dwadashi Fair) : हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी अंबाला शहर में श्री वामन द्वादशी मेला (Vaman Dwadashi Mela) धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है। मालूम रहे कि यह मेला 5 सितंबर से शुरू हुआ, जिसका आज रामबाग रोड पर नौरंगराय तालाब पर समापन होगा।

मेले में उमड़ी श्रद्धा

जानकारी के अनुसार हरियाणा के अंबाला में 3 दिन से चल रहे श्री वामन द्वादशी मेले का आज आखिरी दिन है। दोपहर को पुरानी अनाज मंडी से हिंडोलों में विराजमान भगवान वामन की शोभा यात्रा बड़ी धूमधाम के साथ निकाली गई।

इस दौरान अनेक स्थानों से बैंड मंगवाए गए है जोकि भजनों से पूरे वातावरण को भक्ति के रस में डूबो रहे हैं। शोभायात्रा में दिल्ली, मेरठ, हापुड़, सहारनपुर और अंबाला शहर के बैंड शामिल रहे। इसके अतिरिक्त अनेक कलाकार राधा कृष्ण, वामन भगवान और अन्य देवी-देवताओं की वेशभूषा पहने नजर आए।

शोभायात्रा पर ड्रोन से की जा रही फूलों की वर्षा

वहीं यह भी बता दें कि दोपहर को जैसे ही शोभायात्रा निकाली गई तो पांचों हिंडोलों पर ड्रोन द्वारा 50 किलो की पुष्प वर्षा की गई। जैसे ही फूलों की वर्षा की गई तो यह नजारा देखते ही बन रहा था। हर कोई इस नजारे को अपने मोबाइल में कैद करता नजर आ रहा था।

कल पहुंचे थे हरियाणा के राज्यपाल

मंगलवार रात हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय (Governor Bandaru Dattatreya) भी मेले में पहुंचे थे। इस दौरान राज्यपाल ने पंडाल में पहुंचकर पांचों भगवान के हिंडोलों पर विशेष पूजा की।

नौरंगराय तालाब में हिंडोलों की कराई जाएगी परिक्रमा

भगवान वामन का देर रात नौरंगराय तालाब में जल विहार किया जाएगा। श्रद्धालु खुद तालाब में उतरकर भगवान के बेड़े को जलविहार करवाएंगे। इससे पहले विधिपूर्वक सभी पांचों हिंडोलों को नौरंगराय तालाब में बेड़ा के माध्यम से परिक्रमा कराई जाएगी। पुलिस और प्रशासन द्वारा अच्छे बंदोबस्त किए गए हैं ताकि श्रद्धालुओं को भी किसी तरह की कोई परेशानी न हो।

इन मंदिरों से लिए हिंडोले

मेले के बारे में जानकारी देते हुए श्री सनातन धर्म सभा के प्रधान नरेश अग्रवाल (Naresh Agarwal, President of Shri Sanatan Dharma Sabha) ने बताया कि राधेश्याम मंदिर, कलाल माजरी मंदिर, कलाल माजरी खेड़ा और नौहरियान मंदिर से होते हुए शोभायात्रा बैंड बाजों के साथ दोहपर को गुड़ मंडी में पहुंचेगी। इस दौरान शोभायात्रा पर ड्रोन से फूलों की वर्षा अलग ही छठा बिखेरेगी। पहला हिंडोला ठाकुरद्वारा से लिया जाता है, दूसरा राधे श्याम मंदिर, तीसरा खेड़ा कलाल माजरी, चौथा कलाल माजरी और 5वां नौहरियान मंदिर से होता है। इन हिंडौलों के दर्शन करने को लेकर श्रद्धालुओं में विशेष उत्साह रहता है।

यह भी पढ़ें : Haryana Weather Update: हरियाणा में 9 से 20 सितंबर के बीच बारिश की संभावना

Connect With Us: Twitter Facebook

Latest stories

Related Stories