Saturday, October 8, 2022
Homeहरियाणारोहतकरोहतक पीजीआई में ऐसा क्या हुआ कि नर्सें मोबाइल इस्तेमाल नहीं कर...

रोहतक पीजीआई में ऐसा क्या हुआ कि नर्सें मोबाइल इस्तेमाल नहीं कर सकेंगी What happened in Rohtak PGI that nurses will not be able to use mobile

Date:

What happened in Rohtak PGI that nurses will not be able to use mobile

इंडिया न्यूज, रोहतक।
हरियाणा के जिला रोहतक में चिकित्सा केंद्र पीजीआईएमएस में नर्सें अब ड्यूटी के दौरान मोबाइल का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगी। जी हां, ये निर्देश संस्थान के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. ईश्वर सिंह ने जारी किए हैं। उन्होंने साफ कहा कि मरीज की देखभाल करने के बजाय मोबाइल प्रयोग करने वाली नर्स के खिलाफ कड़ी विभागीय कार्रवाई होगी। Rohatak PGI latest News

इसलिए उठाया गया है कदम

बता दें कि मरीजों की बेहतर स्वास्थ्य सुधार के लिए यह कदम उठाया गया है। इधर, नर्सिंग एसोसिएशन ने इसके खिलाफ आवाज बुलंद की और कहा कि फैसले को एक श्रेणी के कर्मचारियों के लिए लागू किया गया है। एसोसिएशन का कहना है कि नियम सभी के लिए समान रूप से लागू हो। एमएस को स्टाफ की लगातार शिकायतें मिल रही थीं कि स्टाफ ड्यूटी पर लेट पहुंचता, समय से पहले कार्यस्थल छोड़ना, मरीज की देखभाल के बजाय मोबाइल पर गेम खेलना या सोशल मीडिया पर व्यस्त आदि। जिस कारण मरीजों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ हो रहा था।

एसोसिएशन ने क्या लिखा खत में

वहीं एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक यादव व महासचिव सुषमा दुआ की ओर से लिखे पत्र में कहा गया कि संस्थान में अन्य वर्ग के कर्मचारी भी हैं जिनमें विद्यार्थियों के अतिरिक्त जूनियर-सीनियर रेजिडेंट, पीजी, वरिष्ठ चिकित्सक, अन्य फैकल्टी और कर्मचारी वर्ग भी हैं। इसलिए उक्त निर्देश सभी के लिए जारी किए जाएं या फिर इस आदेश को वापस लिया जाए।

ये बोले पीजीआई चिकित्सा अधीक्षक

इस आदेश के बारे में डॉ. ईश्वर सिंह, चिकित्सा अधीक्षक, पीजीआई, रोहतक का कहना है कि संस्थान में बेहतर व्यवस्था बनाने का प्रयास किया जा रहा है। इसीलिए नर्सिंग स्टाफ का ड्यूटी के दौरान मोबाइल इस्तेमाल करने पर प्रतिबंध लगाया गया है। अब यहां मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य लाभ भी मिल सकेगा।

यह भी पढ़ें: हरियाणा में हल्की बूंदाबांदी, मौसम हुआ सुहावना Light Drizzle In Haryana, the weather turned pleasant

Connect With Us : Twitter Facebook

Latest stories

Related Stories