Friday, October 7, 2022
HomeहरियाणाLumpy Vaccination : हरियाणा में 17.35 लाख गौवंश का लम्पी वैक्सीनेशन पूरा

Lumpy Vaccination : हरियाणा में 17.35 लाख गौवंश का लम्पी वैक्सीनेशन पूरा

Date:

इंडिया न्यूज, Haryana News (Lumpy Vaccination): मुख्यमंत्री मनोहर लाल (Haryana CM Manohar Lal) के कुशल नेतृत्व में प्रदेश के 17 लाख 35 हजार गौवंश पशुधन का लम्पी वैक्सीनेशन पूरा किया जा चुका है। हरियाणा ने दूसरे राज्यों की अपेक्षा तेजी से इस वैक्सीनेशन कार्य को पूरा किया है। इस वजह से अब प्रदेश में लम्पी स्किन बीमारी से प्रभावित पशुओं की संख्या में भी एकदम कमी आई है।

गौरतलब है कि अब वही गौवंश पशुधन वैक्सीनेशन से बचा है जिनकी आयु 4 महीने से कम है या इस लम्पी बीमारी से प्रभावित है क्योंकि इन दोनों ही स्थिति में पशु का वैक्सीनेशन नहीं किया जा सकता। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बीमारी की शुरुआत में ही लम्पी स्किन बीमारी से बचने के लिए अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए थे।

उन्होंने स्वयं हर दिन बीमारी से जुड़े आंकड़ों का अध्ययन किया और पूरे घटनाक्रम पर नजर बनाकर रखी। उनके निर्देश पर मुख्य सचिव ने जिला अधिकारियों को निर्देश दिए और प्रदेश में इस बीमारी पर काबू पाया गया।

प्रदेश को मिली हुई है वैक्सीन की 20 लाख डोज

मुख्यमंत्री ने लम्पी स्किन बीमारी को लेकर केंद्रीय मत्स्यपालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री परशोत्तम रूपाला से बात की। उनके प्रयासों से ही प्रदेश को 20 लाख डोज वैक्सीन मिल पाई। इसी वजह से वैक्शीनेशन कार्यक्रम को तेजी से चलाया गया। इसके अतिरिक्त प्रभावित पशुओं की सुरक्षा के लिए विभाग ने दवाइयों की व्यवस्था की। मनोहर लाल के आदेश के बाद प्रदेश में धारा-144 लगाई गई। पशुओं की आवाजाही को एक जिले से दूसरे जिले और राज्य से दूसरे राज्य में जाने पर पूरी तरह से रोक लगाई गई।

मुख्यमंत्री ने सभी जिला उपायुक्तों व पुलिस अधीक्षकों को सख्ती से पालन करवाने के निर्देश दिए थे। इसी का असर है, जो दूसरे प्रदेशों से इस बीमारी से प्रभावित पशु नहीं आ सके। मनोहर लाल ने मक्खियों व मच्छरों की रोकथाम के लिए सभी गौशालाओं में फॉगिंग के आदेश दिए थे।

इसके बाद से पूरे प्रदेश की गौशालाओं में फॉगिंग करवाई गई। इसके अतिरिक्त बीमारी से मृत हो चुके पशुओं को जिला प्रशासन द्वारा गड्ढे खोदकर दफनाया गया। इससे भी बीमारी के फैलाव में कमी आई। मनोहर लाल ने हर जिले को वैक्सीन खरीदने के लिए 7-7 लाख रुपए की अतिरिक्त राशि भी दी गई थी। इसके साथ-साथ पशुपालन विभाग के सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को मुख्यमंत्री ने तेजी से वैक्शीनेशन करने के निर्देश दिए थे। प्रदेश के 1 हजार 42 पशुपालन अस्पतालों के सभी डॉक्टरों ने इस वैक्सीनेशन को पूरा किया।

यह भी पढ़ें : Raju Srivastav Funeral : राजू श्रीवास्तव की अंतिम यात्रा शुरू

Connect With Us: Twitter Facebook

Latest stories

Related Stories