Friday, December 9, 2022
HomeहरियाणाHooda Taunt On BJP : पहले मौसम और अब सरकार की अनदेखी...

Hooda Taunt On BJP : पहले मौसम और अब सरकार की अनदेखी की मार झेल रहे लोग

Date:

इंडिया न्यूज, Haryana News (Hooda Taunt On BJP) : पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा (Former CM Bhupinder Singh Hooda) का कहना है कि मौसम के बाद हरियाणा की जनता अब सरकारी अनदेखी की मार झेल रही है। बारिश बंद होने के 5 दिन बाद भी खेतों, सड़कों और रिहायशी इलाकों से जल निकासी की कोई व्यवस्था नहीं की गई। अब तक किसानों को फसलों में हुए नुकसान का मुआवजा भी नहीं दिया गया।

हुड्डा ने कहा कि खेत में पककर तैयार खड़ी धान, बाजरा, नरमा और सब्जियों की फसल पर बारिश कहर बनकर बरसी। 2 दिनों की बारिश के चलते प्रदेशभर में किसानों की हजारों एकड़ फसल बर्बाद हो गई। इसके चलते प्रत्येक किसान को हजारों रुपए का नुकसान हुआ। सरकार ने हमेशा की तरह मुआवजा देने का ऐलान तो किया, लेकिन किसानों के हाथ हमेशा की तरह इंतजार ही लगा।

Hooda Taunt On BJP : आज तक नहीं मिला मुआवजा

इससे पहले भी कई सीजन से किसान लगातार बेमौसमी बारिश, ओलावृष्टि और जलभराव का सामना कर रहे हैं। उसकी वजह से हुए नुकसान का मुआवजा आजतक किसानों को नहीं दिया गया। जरूरत के वक्त किसानों की मदद के लिए न सरकार आगे आती है और न ही बीमा कंपनियां। जबकि कंपनियां प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के नाम पर किसानों के प्रीमियम से करोड़ों की चांदी कूट रही हैं। अब तक इस योजना से बीमा कंपनियां 40,000 करोड़ रुपए का तगड़ा मुनाफा कमा चुकी हैं, लेकिन किसान के हाथ हमेशा घाटा ही लगता है।

भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि किसान को खेत में मौसम और मंडी में सरकारी नीतियों की मार पड़ रही है। 2060 रुपए के रेट वाली धान 1700 से 1800 रुपए प्रति क्विंटल में पिट रही है। यहीं हाल बाजरा के किसानों का है। सरकार न तो किसानों को एमएसपी दिलवा रही है और न ही अपनी घोषणा के मुताबिक बाजरा किसानों को भावांतर भरपाई योजना का लाभ दे रही है।

सरकार के कानों जूं तक नहीं रेंग रही

हुड्डा ने आगे कहा कि हर बार की तरह इस बार भी बारिश के बाद गुरुग्राम, फतेहाबाद, भुना, रोहतक, हिसार, कैथल, कुरुक्षेत्र, फरीदाबाद, जींद, झज्जर, सिरसा, अंबाला, यमुनानगर सोनीपत, पानीपत, महेंद्रगढ़ और भिवानी समेत पूरे हरियाणा से जलभराव की भयावह तस्वीरें सामने आईं। सड़कें और गलियां दरिया में बदल गर्इं और कई शहरों में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए।

लोगों के घरों से लेकर सरकारी कार्यालयों तक में पानी भर गया। लेकिन सरकार तमाशबीन बनी सब देखती रही। बार-बार मांग के बावजूद सरकार ने वक्त रहते न ड्रेन्स की सफाई करवाई, न सीवरेज सिस्टम को ठीक किया और न ही जल निकासी के लिए पंप सेट लगाए। सरकार की इसी कारगुजारी का खमियाजा किसान व आम जनता को भुगतना पड़ा। इसलिए कांग्रेस की मांग है कि अपनी जिम्मेदारी को निभाते हुए सरकार जल्द निकासी की व्यवस्था करे और स्पेशल गिरदावरी करवा किसानों को उचित मुआवजा दे।

ये भी पढ़ें : Air India Ticket Discount : इन यात्रियों को मिलेगी एयर इंडिया में छूट

ये भी पढ़ें : Udhampur Bomb Blast : ऊधरमपुर में 2 बसों में बलास्ट से हड़कंप

Connect With Us: Twitter Facebook

Latest stories

Related Stories