Monday, September 26, 2022
HomeहरियाणाHaryana E-assembly 2nd Day Updates : भगत फूल सिंह विश्वविद्यालय के रीजनल...

Haryana E-assembly 2nd Day Updates : भगत फूल सिंह विश्वविद्यालय के रीजनल सेंटर को महाविद्यालय बनाएंगे : सीएम

Date:

इंडिया न्यूज, Haryana News (Haryana E-assembly 2nd Day Updates) : हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल (Haryana CM Manohar Lal) ने कोसली विधानसभा क्षेत्र के गांव लूला अहीर में चल रहे भगत फूल सिंह विश्वविद्यालय के रीजनल सेंटर को महाविद्यालय में बदलने की घोषणा की।

मुख्यमंत्री यहां हरियाणा विधानसभा के मॉनसून सत्र के दूसरे दिन प्रश्न काल के दौरान विधायक लक्ष्मण यादव द्वारा गांव लूला अहीर में चल रहे भगत फूल सिंह विश्वविद्यालय के रीजनल सेंटर को विश्वविद्यालय के रूप में विकसित करने के संबंध में पूछे गए प्रश्न का जवाब दे रहे थे।

प्रदेश में 50 सरकारी और निजी विश्वविद्यालय

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में इस समय 50 से अधिक सरकारी और निजी विश्वविद्यालय हैं। यदि विश्वविद्यालयों की संख्या अधिक बढ़ती है तो शिक्षा व्यवस्था पर भी प्रभाव पड़ता है। इसलिए जगह-जगह विश्वविद्यालय खोलने का कोई औचित्य नहीं है। विश्विद्यालय का कार्य केवल परीक्षाएं संचालित करना, कॉलेजों को एफिलिऐशन देना इत्यादि होता है।

वृद्धा पेंशन…

हरियाणा विधानसभा के मॉनसून सत्र के दूसरे दिन की कार्यवाही के दौरान वृद्धावस्था पेंशन के बारे में पूछे गए एक प्रश्न के जवाब में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री ओमप्रकाश यादव (Omparkash Yadav) ने सदन को बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा वृद्धावस्था सम्मान भत्ते के लिए आय की सीमा की विगत समीक्षा वर्ष 2012 में की गई थी।

यादव ने कहा कि वर्तमान में प्रदेश का ऐसा नागरिक, जिसकी सभी स्त्रोतों से वार्षिक आय (पति या पत्नी की आय मिलाकर) 2 लाख रुपए से अधिक नहीं है और आयु 60 वर्ष या इससे अधिक है, वह वृद्धावस्था सम्मान भत्ता के लिए पात्र है। प्रदेश सरकार द्वारा पेंशन की दरों में समय-समय पर बढ़ोतरी की गई तथा वर्तमान में प्रदेश में वृद्धावस्था पेंशन प्रति लाभपात्र को 2500 रुपए प्रति माह दी जा रही है, जो कि पूरे देश में सबसे अधिक है।

कालका नागरिक अस्पताल स्थांनातरित करने का प्रस्ताव सरकार के विचाराधीन

हरियाणा के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री अनिल विज ने कहा कि कालका के नागरिक अस्पताल को स्थांनातरित करने का प्रस्ताव सरकार के विचाराधीन है। इसके लिए भूमि चिह्नित कर ली गई है व भूमि हस्तांतरण की प्रक्रिया विचाराधीन है। इस अवस्था में भूमि हस्तांतरण की प्रक्रिया पूरी होने तक कोई समय सीमा प्रदान करना कठिन है। विज आज यहां हरियाणा विधानसभा में मॉनसून सत्र के दौरान लगाए गए एक प्रश्न का उत्तर दे रहे थे।

यह भी पढ़ें : Haryana E-assembly 2nd Day : सदन में अवैध कॉलोनियों का मुद्दा गूंजा

Connect With Us: Twitter Facebook

Latest stories

Related Stories