Thursday, September 29, 2022
Homeहरियाणाहरियाणा का हर खेत होगा स्वस्थ खेत, मुख्यमंत्री ने किया प्रदेश में...

हरियाणा का हर खेत होगा स्वस्थ खेत, मुख्यमंत्री ने किया प्रदेश में 40 नई मिट्टी जांच लैब का उदघाटन

Date:

चंडीगढ़

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने हर खेत स्वस्थ्य खेत अभियान के तहत आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में खण्ड स्तर पर स्थापित की गईं 40 नई मिट्टी जांच प्रयोगशालाओं का उदघाटन किया। प्रथम चरण में इन प्रयोगशालाओं के माध्यम से इस वर्ष 25 लाख एकड़ भूमि की मिट्टी जांच की जाएगी।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने वीरवार को चंडीगढ़ में हर खेत स्वस्थ्य खेत अभियान के तहत वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में खण्ड स्तर पर स्थापित की गईं 40 नई मिट्टी जांच प्रयोगशालाओं का उदघाटन किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों की आय दोगुनी करने के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के स्वप्न को साकार करने का लक्ष्य हमने लिया है। इसी के तहत प्रदेश में मिट्टी जांच प्रयोगशालाएं स्थापित की गई हैं ताकि किसानों को मिट्टी की जांच के आधार पर यह अवगत करवाया जा सके कि किस फसल की बिजाई करना किसानो के हित में होगा। अगले तीन वर्षों में प्रदेश की सम्पूर्ण 75 लाख एकड़ कृषि भूमि की मिट्टी की जांच तीन वर्ष में की जाएगी। मुुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा ने देश के खाद्यान्न भण्डार को भरने के लिए अहम योगदान दिया है। जब हरित क्रांति आई तो प्रदेश के किसानों ने भरपूर उत्पादन कर देश में खाद्यान्न की कमी को पूरा किया। उन्होंने कहा कि आज खाद्यान्न उत्पादन की मात्रा के साथ-साथ गुणवता पर भी ध्यान देने की आवश्यकता है।

 

मुख्यमंत्री ने किसानों से आर्गेनिक और प्राकृतिक खेती की तरफ बढने का आह्वान करते हुए कहा कि ऐसा करने से खाद्य उत्पादों के कारण निरंतर बढ़ रही बीमारियों की रोकथाम में भी किसान अहम भूमिका निभाएंगे। मुख्यमंत्री ने कृषि विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि सीनियर सैकेण्डरी स्कूलों एवं कालेजों के विद्यार्थियों की मृृदा जांच के कार्य में भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए व्यापक योजना बनाएं ताकि विद्यार्थी पढाई के साथ कमाई भी कर सकें। उन्होंने कहा कि किसान के बेटे पढाई के साथ खेतों से मिट्टी के नमूने एकत्र करने का काम रुचि लेकर करेंगे, इससे उनकी आय भी होगी। इस कार्य में लगे विद्यार्थियों को प्रति नमूना 40 रुपए का मानदेय दिया जाएगा। क्रार्यक्रम के दौरान बताया गया कि गत वर्ष स्कूलों एवं कालेजों के 115 विज्ञान अध्यापकों एवं सहायक प्रोफेसरों को मृृदा परीक्षण का प्रशिक्षण सीएसएसआरआई करनाल एवं एचएयू हिसार में दिया जा चुका है।

 

राजकीय सीनियर सैकेण्डरी स्कूलों में 50 लघु मृदा प्रयोगशालाएं पहले ही स्थापित की जा चुकी हैं और 65 अन्य ऐसी प्रयोगशालाएं स्कूलों एवं कालेजों में स्थापित की जा रही हैं। कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जे पी दलाल ने कहा कि हरियाणा सरकार ने प्रदेश में मृदा परीक्षण प्रयोगशालाओं के जाल बिछाने की योजना बनाई है। इसी के तहत आज 40 नई प्रयोगशालाओं का उदघाटन किया गया है। अब किसानों को अपने खेत की मिट्टी की जांच करवाने की सुविधा उनके घर के नजदीक मिलेगी। उन्होंने कहा कि अभी तक सूक्ष्म तत्वों के विश्लेषण की सुविधा सभी प्रयोगशालाओं में नहीं थी परंतु अब यह सुविधा प्रत्येक प्रयोगशाला में उपलब्ध होगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश की 75 लाख भूमि की मृदा जांच का कार्य तीन साल में की जाएगी और इसके तहत मृदा स्वास्थ्य जांच कार्ड प्रदान किए जाएंगे। क्रार्यक्रम के दौरान कृषि एवं किसान कल्याण विभाग की एसीएस डा. सुमिता मिश्रा ने बताया कि इसी वित वर्ष में पंचकूला और करनाल स्थित दो मृदा परीक्षण प्रयोगशालाओं का राष्ट्रीय परीक्षण और अशंशोधन प्रयोगशाला प्रत्यायन बोर्ड से एक्रीडेशन करवाया जाना प्रस्तावित है। भारत में हरियाणा पहला राज्य होगा जहां भूमि परीक्षण प्रयोगशलाओं का एनएबीएल एक्रीडेशन होगा।

Latest stories

Related Stories